बंगाल की खाड़ी में बना हवा का कम दबाव का क्षेत्र आंध्र प्रदेश में मछलीपट्टनम के 1120 किलोमीटर दक्षिण पूर्व में केन्द्रित

Cyclonic Sea Tornadoes from Okhi, from Lakshadweep to North West, some relief from rain and storm

बंगाल की खाड़ी के पश्चिमोत्‍तर में बना हवा का कम दबाव का क्षेत्र आंध्र प्रदेश में मछलीपट्टनम के एक हजार एक सौ बीस किलोमीटर दक्षिण पूर्व में केन्द्रित है। यह ओडि़शा में गोपालपुर से दक्षिण-दक्षिण पूर्व में है। पृथ्‍वी विज्ञान मंत्रालय की विज्ञप्ति में कहा गया है कि इस तूफान के पश्मिोत्‍तर की तरफ बढ़ने तथा शुक्रवार शाम तक आंध्र तट पर पहुंचने की संभावना है। तट के पास पहुंचने पर उसके कमजोर होने की संभावना व्‍यक्‍त की गई है। हमारे संवाददाता ने बताया है कि इसके प्रभाव से अंडमान निकोबार द्वीप समूह में अगले 24 घंटे के दौरान अधिकांश स्‍थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा की आशंका है। मछुआरों को समुद्र में न जाने की सलाह दी गई है।

खराब मौसम का सबसे ज्‍यादा असर जलयान सेवाओं पर पडा और कई द्वीपों के लिए सेवाओं को रद्द करना पडा। दक्षिण अंडमान जिला उपाय पर उदित प्रकाश राय ने बताया कि नील द्वीप में फंसे पर्यटकों को लाने के लिए चार जलयान कल भेजे जाएंगे। विमान कंपनियों से भी कहा गया है कि जिन पर्यटकों की कल की फ्लाइट है उन्‍हें प्राथमिकता दी जाए। पोर्ट ब्‍लेयर बन्‍दरगाह से हवाई अड्डे तक पहुंचने के लिए बसों की व्‍यवस्‍था भी की गई है। इस बीच पोर्ट ब्‍लेयर से कल विशाखापट्टनम के लिए रवाना होने वाले एक यात्री जहाज की सेवा खराब मौसम के कारण स्‍थगित कर दी गई है। अगले दो दिनों तक निकोबार द्वीप में भारी वर्षा होने की संभावना व्‍यक्‍त की गई है। जबकि अंडमान द्वीप के कई भागों में भी वर्षा होगी।

Related posts