भारत ने रोहिंग्‍या मुद्दे पर संयुक्‍त राष्‍ट्र मानवाधिकार संगठन के द्वारा की गई आलोचना पर खेद व्‍यक्‍त किया

India regrets the criticism by the UN Human Rights Organization on the Rohingyas issue

भारत ने रोहिंग्‍या मुद्दे पर संयुक्‍त राष्‍ट्र मानवाधिकार संगठन के द्वारा की गई आलोचना पर खेद व्‍यक्‍त किया। कहा – कानून पर अमल करने का मतलब यह नहीं लगाना चाहिए कि उसमें संवेदनशीलता की कमी है।

संयुक्‍त राष्‍ट्र में भारत के स्‍थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन ने कहा है कि कानूनों पर अमल का मतलब संवेदनशीलता की कमी नहीं समझा जाना चाहिए। वे संयुक्‍त राष्‍ट्र मानवाधिकार आयोग द्वारा रोहिंग्‍या शरणार्थियों को स्‍वदेश वापस भेजने की भारत सरकार की योजना की आलोचना के एक दिन बाद उन्‍होंने इस बात पर खेद व्‍यक्‍त किया कि आयोग ने आतंकवाद के खतरे की अनदेखी कर दी है। सैयद अकबरुद्दीन ने कहा कि भारत अवैध प्रवासियों को लेकर चिंतित है, खासतौर पर इस बात को लेकर कि वे सुरक्षा की भी चुनौती पैदा कर सकते हैं।

Related posts