विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने की मंगोलिया के प्रधानमंत्री और विदेश मंत्री से मुलाकात

follow link विदेश मंत्री दो दिनों के मंगोलिया दौरे पर हैं जहां उन्होंने मंगोलिया के प्रधानमंत्री और विदेश मंत्री से मुलाकात की। रणनीतिक वार्ताओं और कुछ अहम समझौतों के अलावा विदेश मंत्री नें दोनों देशों के बीच आध्यात्मिक संबंधों को भी आगे बढ़ाने की बात की।

http://www.judithschlosser.ch/?ityrew=we-point-opzioni-digitali&ea7=9b मंगोलिया के साथ हमारी साझा बौद्ध विरासत की जडें मजबूत हो रही है और इसमें ताज़ा कड़ी बनी है विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की यात्रा। रणनीतिक वार्ताओं और कुछ अहम समझौतों के अलावा विदेश मंत्री का ये दौरा दोनों देशों के बीच आध्यात्मिक संबंधों में नई जान भी फूंक रहा है। दौरे के दूसरे दिन विदेश मंत्री ने मंगोलिया के प्रधानमंत्री यू खुरेलसुख से मंगोलिया की राजधानी उलानबटोर में मुलाकात की और द्विपक्षीय सहयोग के मुद्दों पर चर्चा की। इससे पहले विदेश मंत्री ने मंगोलिया के विदेश मंत्री  दाम-दिन  त्सोग्बातर के साथ भारत-मंगोलिया संयुक्त परामर्श समिति के छठे दौर की बैठक की सह-अध्यक्षता की। बैठक में भारत और मंगोलिया ने बुनियादी सुविधाओं के विकास समेत ऊर्जा, सेवा और सूचना प्रौद्योगिकी जैसे क्षेत्रों में आर्थिक सहयोग बढ़ाने पर चर्चा की। दोनों देश सहयोग के नए क्षेत्रों का पता लगाने और आपसी व्‍यापार और निवेश बढ़ाने पर भी सहमत हुए। सुषमा स्‍वराज 42 वर्षों में मंगोलिया की यात्रा करने वाली भारत की पहली  विदेश मंत्री हैं। सुषमा स्वराज ने इस मौके पर अपने साझा बयान में कहा कि भारत विश्‍व की सबसे तेजी से बढ़ रही अर्थव्‍यवस्‍थाओं में से है और मंगोलिया भारत की विकास यात्रा में महत्‍वपूर्ण भागीदार हो सकता है। विदेश  ने कहा कि भारत और मंगोलिया के बीच संबंध रणनीतिक ही नहीं आध्यात्मिक संबंध भी है।

get link दोनों देशों के बीच रक्षा और सुरक्षा को लेकर सहयोग बढ़ाने को लेकर अहम बातचीत हुई जिसके बाद दोनों नेता इस बात पर सहमत हुए कि उच्च स्तर पर वार्ताओं का दौर जारी रहना चाहिए। इस कड़ी में जल्द ही भारत के गृह मंत्री मंगोलिया के दौरे पर जाएंगे। विदेश मंत्री ने मंगोलिया के व्यापारिक समुदाय से भारत के आर्थिक विकास का फायदा उठाने के लिए निवेश करने का आह्वान किया। साथ ही कहा कि दोनों देशों के बीच सीधी उड़ान सेवा के संभावना तलाशी जा रही है।

binära optioner farligt विदेश मंत्री ने कहा कि 2015 में प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी की ऐतिहासिक यात्रा से दोनों देशों के संबंधों को नई गति मिली और आपसी संपर्क तेजी से बढ़े हैं।

flirten hände सुषमा स्वराज ने मंगोलिया में रह रहे भारतीय समुदाय को संबोधित भी किया। उन्होंने कहा कि दुनियाभर में भारतीय जहां भी जाते हैं, अपने गुणों के लिए जाने जाते हैं ।उन्होंने भारतीय समुदाय से अपील की कि वे बदलते भारत में वे अपनी भागीदारी निभाने के लिए तैयार रहें।

http://azortin.pl/?rtysa=opcje-binarne-w-z%C5%82ot%C3%B3wkach&0e4=96 सुषमा स्वराज ने इन दो दिनों में इस बौद्ध देश के साथ राजनीतिक, रणनीतिक, आर्थिक, शैक्षिक और सांस्कृतिक संबंधों को और मजबूत करने के लिए द्विपक्षीय वार्ताए की हैं और उम्मीद है ये उनकी ये यात्रा दोनों देशों के बीच रिश्तों को और प्रगाढ़ करेगी।

Related posts